डेल्टा प्लस कोरोना की तीसरी लहर के लक्षण | Delta plus variant symptoms in hindi

Delta plus variant symptoms in hindi - कोरोना तीसरी लहर कब आएगी क्या आप भी जानना चाहते हो डेल्टा प्लस के लक्षण डेल्टा प्लस वेरिएंट क्या है how many delta variant cases in india डेल्टा प्लस के 7 जून तक 23 जून तक total 50 लगभग है जिनकी संख्या एक्सपर्ट अनुसार बड़ सकती है आइये जाने is covishield effective on delta variant

डेल्टा प्लस वायरस संस्करण कोविड 1 9


कोरोनावायरस के अभी तक जितने भी बदले वायरस (variant) आए हैं उन सबमे Delta plus variant सबसे खतरनाक माना जा रहा है और अगर डेल्टा प्लस वैरिएंट के संक्रमण की रफ्तार तेज हुई तो इसी की वजह से तीसरी लहर आएगी कोविड का अल्फा वेरिएंट भी काफी संक्रामक है पर डेल्टा स्वरुप इससे 60 फीसदी अधिक संक्रामक है माना जाता है 

कोरोना तीसरी लहर डेल्टा प्लस वेरिएंट 


एक्सपर्ट को डर है की कोरोना की तीसरी लहार का कारण डेल्टा प्लस वेरिएंट ना बन जाये हालांकि माना यह भी जा रहा कोरोना की वैक्सीन तीसरी लहार रोकने में असरदार रहेगी  देश में कोरोना वायरस की खतरनाक दूसरी लहर अल्फा वेरिएंट के चलते आई थी वैज्ञानिकों का कहना है पिछले वेरिएंट में ऑक्सिजन लेवल घट रहा था लेकिन हम नहीं जानते कि डेल्टा प्लस वेरिएंट के कैसे नतीजे होंगे

कोरोना तीसरी लहर बच्चे

भारत में कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर आएगी तो बच्चे ज्यादा प्रभावित होंगे क्योकि दूसरी लहर के खत्म होने के 90 दिन की अवधि में देश की 40 फीसदी आबादी को वैक्सीन की दोनों खुराक मिलने की उम्मीद की जा रही है लेकिन बच्चों के लिए अभी भी कोई वैक्सीन नहीं आई इस बजय से बच्चे अभी कोरोना वायरस के प्रति ज्यादा संवेदनशील बने हुए हैं केरल में इस वैरिएंट से चार साल का बच्चा भी संक्रमित हुआ है

 how many delta variant cases in india


भारत के 11 राज्यों में 48 केस मिले हैं महाराष्ट्र में सबसे अधिक 20 संक्रमण डेल्टा संस्करण मामले, तमिलनाडु में डेल्टा प्लस संस्करण के नौ मामले, मध्य प्रदेश में सात मामले, केरल में तीन, पंजाब और गुजरात में दो-दो मामले और आंध्र प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान, जम्मू और कर्नाटक में एक-एक मामले पाए गए

डेल्टा प्लस वेरिएंट आम लक्षण:
  • बुखार
  • सूखी खाँसी
  • थकान
  • सर दर्द 
  • साँस लेने में तकलीफ 
  • कमजोरी 

 डेल्टा प्लस वेरिएंट से बचाव के तरीके 


कोरोना का कोई भी वैरिएंट हो बचाव के तरीके वोही तरीके है मास्क उपयोग में लाये भले वैक्सीन लग चुकी हो और उचित दुरी बना के रखे दोनों वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन डेल्टा वेरियंट के खिलाफ प्रभावी हैं इसलिए वैक्सीन अवश्य लगवा ले 
Previous Post Next Post