Best doctors in ujjain | Piles Fistula fissure dr treatment


जानेंगे Best piles doctors in ujjain Fissure treatment in Ujjain Piles specialist doctor in Ujjain Fissure treatment in Ujjain Best lady doctor for Piles near me

पाइल्स रोग को अधिकतर लोग अर्श या बबासीर के नाम से भी जानते हैं इसके साथ ही हम बताने वाले हैं भगंदर या फिस्टुला के बारे में उज्जैन शहर में इसके इलाज के बारे में कैसे एक बेहतर डॉक्टर ही इन रोगो का जड़ से इलाज कर सकता है पाइल्स फिस्टुला फिशर में अंतर क्या होते है यह भी जानलो

 

Types of anus diseases and treatment

 पाइल्स या बवासीर, फिस्टुला यानी भगंदर, और  फिशर ये गुदा रोग से संबंधित बीमारियां हैं इनकी मुख्य वजह गलत खानपान पुरानी कब्ज, सही से सफाई ना होना या नुकीली चीज से घाव होना या जो लोग मिर्च मसाला और मैदे से बने हुए खाद्य पदार्थ अधिक खाते है या फिर कम व्यायाम करते हैं ऐसे लोगो को पाइल्स फिस्टुला फिशर होने की अधिक संभावना होती है 


- रोग का सम्पूर्ण इलाज के लिए Govt Ayurveda hospital drNayak

पाइल्स बवासीर का इलाज उज्जैन

piles fistula fissure difference in hindi
piles fistula fissure difference in hindi


Piles जिसे आम बोलचाल की भाषा में बवासीर नाम से भी जाना जाता हैै गुदा के टर्मिनल हिस्से में सूजन पैदा कर अंगूर के दानों के समान उत्पन्न हो जाता है 

 मल त्याग के बाद खून आना या मल के साथ खून आना कई लोग शर्म बस डॉक्टर को नहीं दिखाती और बताएं आम नुकसे आजमाती रहते हैं और इन बीमारियों को बड़ा बना लेते हैं जिससे infection काफी बढ़ जाता है और उसका उपचार होने में कठिनाई होती है इसलिए प्रथम अवस्था में ही डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए


फिस्टुला भगंदर का इलाज उज्जैन में 

Fistula को आम भाषा में भगंदर के नाम से भी जाना जाता है यह मोटापे और लंबे समय तक बैठने से भी जुड़ा रोग है एक तरह से गुदा ग्रंथियां का infection हैं जो बैक्टेरियल भी हो सकता है इसमें anal संक्रमण हो जाता हैं जिससे मवाद निकलने लगता है रियलिटी में वहा एक अलग रास्ता बनने लगता है यह एक फोटो ऑपरेशन कुछ महीनो बाद का है देखे 

Best doctors in ujjain | Piles Fistula fissure dr treatment

इस फोटो में आप समझ सकते है नीचे तक यह रास्ता बन गया था बाद में एक सफल इलाज हमने किया

फिस्टुला संक्रमित ग्रंथि (फोड़ा) से जोड़ने वाला एक मार्ग होता है। यह रेडिएशन, वार्ट्स, कैंसर, ट्रामा, क्रोहन आदि के कारण भी हो सकता है मुहाने से मवाद आना, दर्द के साथ में सूजन रहती है

fissure rog ka ilaj ujjain 

 गुदा के दीवाल opning पर कट या दरार का हो जाना 
इसमें अधिकतर लोग समझ नहीं पाते या माल त्याग के समय जोर लगाने से अधिकतर मामलों में होता है एक डॉक्टर ही सामान्य परीक्षण के बाद समझ सकता है कि यह फिशर है यह भी दर्दनाक होता है 

 यह भारी व्यायाम करने के कारण भी हो सकता है ज्यादातर 50 से ऊपर आयु समूहों को प्रभावित करता है तीव्र और क्रॉनिक दो रूपों में बाट सकते हैं फाइबर युक्त आहार और दवा से तीव्र फिशर को आसानी से ठीक किया जा सकता है क्रॉनिक को प्रबंधित करना मुश्किल है और पुनः हो सकता है

इलाज कहा और कैसे करवाए 


इन सभी रोगों के उपचार होने की सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि अगर यह सही तरीके से उपचारित ना हुए तो उनके रिपीट होने के चांस होते हैं इसलिए एक सही specialist डॉक्टर के पास ही इसका उपचार करवाएं  
أحدث أقدم